Categorized | Relief Work, Zonal Highlights

JIH Maharashtra and IRCT to start construction of houses for flood victims of Kolhapur

Posted on 22 January 2020 by Webmaster JIH Maharashtra

 

Kolhapur – An agreement (MoU) was signed between Jama’at-e-Islami Hind, Maharashtra and Zilla Parishad Kolhapur on 20th January 2020.

As per the agreement, Kanwad village in Kolhapur district has been selected for construction of houses. In the first phase, houses will be constructed for 38 flood affected families and 2 purified water system will also be made for drinking water.

It may be noted that Shirol Taluka of Kolhapur district has been worst affected by the devastating floods that occurred a few months ago.

Kanwad and other villages of this taluka have been in the grip of 100% flood for several days. In these villages, volunteers from IRW (disaster management unit) of Jama’at-e-Islami Hind, Maharashtra have carried out rescue and relief work.

Flood Relief Fund / Awas Yojna from the government gets 95,000/- to 1,20,000/- rupees under housing and household scheme after becoming eligible under the scheme. This amount is insufficient to build a small but strong house. That is why Jama’at-e-Islami Hind, Maharashtra and Ideal Relief Committee Trust conducted an in-depth survey of the village, prepared a construction plan through engineers for the destroyed houses, according to which the minimum estimate for the RCC construction of a house is Rs 300,000/- (three lakhs).

In addition to the funds received from the Flood Relief Fund and Housing Scheme, the organization will build houses with financial assistance of 200,000/- (two lakhs) per house.

If this work is completed before the rains,
in the second phase, houses will be constructed in Kurundwad, Rajapur, Herwad in Kolhapur district and Bhilwadi in Sangli district.

In addition, the student organization SIO will provide a set of books for the basic needs of schools and libraries.

The cost of this rehabilitation project is about 2,48,00,000/- rupees (Two Crore Forty-Eight Lakh).

On the occasion of the agreement, Mr. Aman Mittal IAS, (CEO Zilla Parishad, Kolhapur), Mohammad Mazher Farooque (Secretary, Department of Social Service, Jama’at-e-Islami Hind, Maharashtra), Ajay Kumar Mane (Project Director DRDA), Vaishali Mhaske (District Project Officer), Ismail Sheikh (Jama’at-e-Islami Hind, Kolhapur) and Ashfaque Pathan (SIO Kolhapur) were present.

WhatsApp Image 2020-01-22 at 2.10.01 PM

जमाअ़त-ए-इस्लामी हिंद महाराष्ट्र और आइडियल रिलीफ़ कमेटी ट्रस्ट 26 जनवरी 2020 से कोल्हापुर जिले के बाढ़ पीड़ितों के लिए घरों का निर्माण शुरू करेगी।

कोल्हापुर – जमाअत-ए-इस्लामी, महाराष्ट्र और जिला परिषद कोल्हापुर के मध्य 20 जनवरी 2020 एक समझौता हुआ ।

समझौते के अनुसार, कोल्हापुर जिले के कनवाड़ गांव को घरों के निर्माण के लिए चुना गया है। इसके पहले चरण में 38 बाढ़ प्रभावित परिवारों के लिए घर बनाए जाएंगे और पीने के पानी के लिए 2 शुद्ध पेयजल व्यवस्था भी की जाएगी।

स्पष्ट हो कि कोल्हापुर जिले का शिरोल ताल्लुका कुछ महीनों पहले आई विनाशकारी बाढ़ में सबसे बुरी तरह प्रभावित हुआ है।

इसी ताल्लुका के कनवाड़ और अन्य गाँव कई दिनों तक शत-प्रतिशत बाढ़ की चपेट में रहे हैं। इन गांवों में शुरुआत से ही जमाअत ए इस्लामी हिंद महाराष्ट्र की आपदा प्रबंधन इकाई आई आर डब्ल्यू (IRW) के स्वयंसेवकों ने राहत कार्य और बचाव कार्य को अंजाम दिया है।

शासन की ओर से फ्लड रिलीफ़ फंड / आवास और घरकुल योजना के अंतर्गत 95000 से 120000 रुपए योजना के तहत पात्र होने के बाद मिलते हैं । यह राशि एक छोटे लेकिन मजबूत मकान के निर्माण के लिए अपर्याप्त है ।

इसीलिए जमाअत ए इस्लामी हिन्द महाराष्ट्र और आइडियल रिलीफ़ कमेटी ट्रस्ट ने इस गाँव का गहन सर्वेक्षण किया, नष्ट हुए घरों के लिए इंजीनियरों के माध्यम से निर्माण योजना तैयार की, जिसके अनुसार एक घर के आरसीसी निर्माण का न्यूनतम अनुमान 300000 (तीन लाख) रुपये है।

बाढ़ राहत कोष और आवास योजना से प्राप्त धन के अलावा संगठन प्रति घर 200000 (दो लाख) की वित्तीय सहायता के साथ घर बनाएगा।

यदि बारिश से पहले यह काम पूरा हो जाता है, तो दूसरे चरण में कोल्हापुर जिले के कुरूंदवाड, राजापुर, हेरवाड़ और सांगली जिले के भीलवाड़ी में घरों का निर्माण किया जाएगा।

इसके अलावा छात्र संगठन एसआईओ स्कूलों की बुनियादी आवश्यकताओं और पुस्तकालयों के लिए पुस्तकों के सेट प्रदान करेगा।

इस पुनर्वास परियोजना की लागत लगभग 2,48,00,000 रुपये (दो करोड़ अड़तालिस लाख) है।

समझौते के अवसर पर श्री अमन मित्तल साहिब IAS (सीईओ जिला परिषद, कोल्हापुर), मोहम्मद मज़हर फारूक (सचिव, जनसेवा विभाग, जमाअत ए इस्लामी हिंद महाराष्ट्र ), अजय कुमार माने (परियोजना निदेशक डीआरडीए), वैशाली महसके (जिला परियोजना अधिकारी), इस्माइल शेख (जमाअत ए इस्लामी हिंद कोल्हापुर) और अशफाक पठान (एसआईओ कोल्हापुर) उपस्थित थे।
—-
Media Cell – JIH Maharshtra
Mumbai. 09137050873
[email protected]

WhatsApp Image 2020-01-22 at 2.10.01 PM (1)

  • Post a comment

    Threaded commenting powered by interconnect/it code.

Western Maharashtra Flood Relief By JIH Mahrashtra | News 18

Get the latest updates via Email

Watch Our Latest Video

VISIT OUR OTHER WEBSITES